गुणात्मक शिक्षा व शिक्षक व्यवसाय को बढ़ता खतरा

गुणात्मक शिक्षा व शिक्षक व्यवसाय को बढ़ता खतरा

पिछले कुछ समय से हिमाचल में सरकारी स्कूल-कॉलेज-विश्वविद्यालय में दी जा रही शिक्षा के बारे में कई अहम सवाल खड़े होते आए हैं। इसमें न सिर्फ इन संस्थानों में बुनियादी सुविधाओं और आधारभूत ढांचे की कमी उजागर हुई बल्कि शिक्षकों की कमीं और उनकी नाना प्रकार की तदर्थ नियुक्तियां भी समाचार दैनिक सुर्ख़ियों में रहती […]

परंपरा का बुजका

पिछले दिनों हमारे एक चचेरे भाई का फोन आया कि वे मुंबई पहुंच गए हैं, कई दिन के सफर के कारण बच्चे-बडे सभी बीमार पड़ गए हैं और रात को ही लौट जाना है, इसलिए घर नहीं आ पाएंगे। चाचीजी के लिए कुछ सामान लाए थे, यहीं छोड़ रहे हैं, तुम आकर ले जाना। सुबह का […]

ढोलरू – प्रकृति के प्रति कृतज्ञता का गान

ढोलरू – प्रकृति के प्रति कृतज्ञता का गान

शायद दो साल पहले की बात है. सुबह तैयार हो कर दफ्तर के लिए निकला तो हवा खुशगबार थी. यूं वक्‍त का दबाव हमेशा बना रहता है लेकिन उस दिन हवा में कुछ अलग तरह की तरंग थी. जैसे सुबह और शाम के संधिकाल का स्‍वभाव दिन और रात के स्‍वभाव से अलग होता है, […]

शिक्षा का अधिकार – उज्जवल भविष्य की उम्मीद

सूचना के अधिकार के बाद शिक्षा का अधिकार भी हमारे बुनियादी हकों में शामिल हो गया। महिला आरक्षण विधेयक भी कानून बनने की प्रक्रिया में है। ये ऐतिहासिक निर्णय हैं जो आने वाले समय की दिशा और दशा तय करेंगे। इन्हें हमारे सामाजिक जीवन की एक नई सकारात्मक शरुआत भी माना जा सकता है। ऊपरी […]

भटकती शिक्षा

एक  छात्र को कहते सुना : “यार अब तो मौज ही मौज है ! पढ़ो चाहे न पढ़ो पास तो हो जायेंगे ! सुना है CCE वाले सब को पास करने आ  गए हैं! दुसरे ने कहा : “अरे अब तो गुरूजी को पास करना ही होगा! CCE  के साथ रिजल्ट आंकलन भी तो आ […]

इस बार नहीं

इस गणतंत्र दिवस पर प्रसून जोशी कि एक कविता उद्द्रित करता हूँ. हमे अब समझ लेना चाहिए कि गणतंत्र दिवस का महत्व राष्ट्रीय अवकाश से बढकर बहुत कुछ है. शायद मुफ्त में मिली आजादी को बहुत सस्ता समझ रहें हैं हम. इस बार नहीं इस बार जब वह छोटी सी बच्ची मेरे पास अपनी खरोंच […]

Related Posts with Thumbnails